Feeds:
पोस्ट
टिप्पणियाँ

Archive for the ‘ऋषभ जैन’ Category

अनंत

क्या है सघन मेघों के उस पार,
नही जानता
हो सकता है अंधकार ,
या हो सकते हैं सूर्य हजार,
यही मानता

सत्य छुपा
हो उस चोटी पर,
जो हो मेघों से भी ऊपर
बादल से छनती किरण थाम लूँ ,
उस चोटी को लक्ष्य मान लूँ

विकट सरल बाधाएं चीर कर,
पहुंचूंगा मैं जब उस चोटी पर
मैं निश्चय ही यह पाऊंगा ,
मैं भी एक
सूर्य बन जाऊंगा ।।

ऋषभ जैन


Advertisements

Read Full Post »

उसमें अनंत गहराई है,
है व्याकुलता, तन्हाई है,
ढूंढ सको तो ढूंढ लो ,
एकसोताउसमें कहीं बहता है
कवि तो ख़ुद एक कविता है

दुनिया से बेगाना है,
दुनियादारी से अनजाना है,
अव्यक्त, उलझे भावों को,
वो कागज़ पर लिख देता है
कवि तो ख़ुद एक कविता है

शब्दों की भी सीमायें हैं,
कविता में कुछ अंश ही आयें हैं,
सागर से निकली इन बूंदों में भी,
कितना कुछ वो कहता है ,
कवि तो ख़ुद एक कविता है

उन शब्दों को हम ना ताकें,
गर उस हलचल को पहचान सके
क्या कहना आख़िर वो चाहता है,
उन अर्थों को हम जान सकें,
बेचैनी, उमंग नीरवता को भी,
वो लफ्जों में कह देता है
कवि तो ख़ुद एक कविता है

कविता तो एक माध्यम है,
आख़िर तो कवि को पढ़ना है
कलम की इस सीढ़ी से,
उसके ह्रदय तक चढ़ना है
वहाँ पहुंचोगे तो पाओगे
एक कलकल करती सरिता है
कवि तो ख़ुद एक कविता है

ऋषभ जैन
प्रथम वर्ष का छात्र

Read Full Post »